“उसका प्रेम मुझे उसके करीब रखता है”- ओड़िशा

कौन हम को मसीह के प्रेम से अलग करेगा? क्या क्लेश, या संकट, या उपद्रव, या अकाल, या नंगाई, या जोखिम, या तलवार? रोमियों 8:35 मसीह में हमारे विश्वास की गहरी सुदृढ़ता के बारे में जाँच पड़ताल करता हैं। यह स्पष्ट रूप से कई बाधाओं और निर्णायक बिंदुओं को सामने रखता है जो हमें मसीह का अनुसरण करने से भटका सकता हैं यदि हमारी आशा और विश्वास उस पर मजबूत नहीं है।

ओडिशा में कंधमाल जिले की बेलाघर तहसील में स्थित कटडगांडा गाँव की रहने वाली जया चन्द्र प्रधान ने निरंतर सतावट की कहानी को बयान किया। उन्होंने वर्ष 2005 में यीशु को अपना प्रभु और उद्धारकर्ता के रूप में स्वीकार किया और उसके बाद से कभी भी पीछे मुड़कर नहीं देखा। 2008 में, उनके गांव के दोस्त लोगों ने उनके विश्वास को इनकार करने एवं एक हिंदू के रूप में पुनः परिवर्तित होने के लिए कई बार उन्हें चेतावनी दी।

जब जया प्रधान ने इस तरह की चेतावनियों से भयभीत नहीं हुए, तो सताने वालों ने उनके घर को जला दिया। वे बेघर हो गयें और उन्हें एक राहत शिविर में शरण लेनी पड़ी, जहाँ वह छह महीने तक रहे। उसके बाद, वह पांच साल के लिए किराए के घर में रहे।
परमेंश्वर का अनुग्रह से, जया एक घर को पुननिर्माण करने में सक्षम हो गई और अपने बूढ़े माता-पिता के पास अपने पैतृक गांव लौट आई, जो अब दुनिया छोड़ चुके हैं। जया ने अपना जीवन मसीह को सौंप दी थी, और सुसमाचार को बुलाहट के रूप में ली ।
हर गुजरते दिन के साथ, वह सामाजिक भेदभाव और जान से मारने की धमकी को सामना कर रहा है। सताने वालों ने उसे बताया कि यदि वह मसीह को इनकार नहीं करता है, तो उसे गोली मार दी जाएगी। पहले कुछ ग्रामीण मजदूरी के बदले में अपने कृषि क्षेत्रों में उनका समर्थन करते थे। अब हर कोई आने से और उसकी मदद करने से डरता है और क्योंकि वे भी अपनी जान गंवाते हैं या सताये होते हैं।

उसके गाँव के लोगों ने अभी भी मसीह में उसके विश्वास के कारण उसे स्वीकार नहीं किया है। गाँव के 75 धार्मिक हिंदू परिवारों में से, जया अपनी पत्नी और तीन बच्चों के साथ अकेला मसीही है। पहले, उनके पास कुछ विश्वासिय आते और उनके साथ आराधना करते थे, लेकिन अब सिर्फ वे और उनका परिवार है जो केवल अपने घर से जीवित परमेंश्वर की स्तुति और आराधना करते हैं।

यह पूछे जाने पर कि क्या वह डरते हैं, जया ने स्वीकार किया कि वह कभी-कभी डरती है लेकिन फिर भी अपने विश्वास का त्याग नहीं छोड़ेगी। उसने प्रार्थना में अपने और अपने परिवार को याद रखने के लिए प्रेसिक्युशन रिलीफ से अनुरोध किया है।

मजबूती से खड़ा होने के लिए जया एवं उनके परिवार के लिए प्रार्थना करें |

प्रार्थना करें कि हमारा गढ़ यीशु, जया प्रधान और उनके परिवार को सुरक्षा और शांति प्रदान करे।

ग्रामीणों के परिवर्तन के लिए प्रार्थना करें ताकि वे जया के परिवार से प्रेम करें और वे अपने पापों के लिए दोषी ठहराया जाए।
प्रार्थना करें कि ओडिशा – गंभीर मसीही सतावट वाले राज्यों में से एक – यीशु के साथ एक व्यक्तिगत मुलाकात का अनुभव कर सके, जैसे कि शाऊल के साथ हुआ।

प्रार्थना करें कि प्रेसिक्युशन रिलीफ परमेश्वर के ईश्वरीय प्रावधानों और ज्ञान के माध्यम से सताने वाले लोगो के लिये बिना रुके हुए सेवा कर सके।

मसीह में प्रिय प्यारे भाइयों और बहनों, जब समय कठिन हो जाता है, तो यह स्वाभाविक है कि प्रभु पर हमारा विश्वास डगमगाने लगता है। इन समयों के दौरान, जया प्रधान और उनके साथ कई लोग, जो अपने विश्वास के लिए सतावट का सामना कर रहे हैं, हम में विश्वास और साहस को पैदा करते हैं और हमें मसीह में हमारे बने होने की जांच करने की अनुमति देते हैं। हम प्रार्थना करते हैं कि हममें से हर एक अकेले यीशु मसीह में अपना विश्वास और आशा रखकर संकटों के समय एक उत्साही विश्वासी बने रहें।

जब आप प्रार्थना करें, तो इफिसियों 3:16-17 से परमेश्वर के जीवित वचन पर मनन करें,

कि वह अपनी महिमा के धन के अनुसार तुम्हें यह दान दे, कि तुम उसके आत्मा से अपने भीतरी मनुष्यत्व में सामर्थ पाकर बलवन्त होते जाओ। और विश्वास के द्वारा मसीह तुम्हारे हृदय में बसे कि तुम प्रेम में जड़ पकड़ कर और नेव डाल कर।



DISCLAIMER:
Persecution Relief wishes to withhold personal information to protect the victims of Christian Persecution, hence names and places have been changed. Please know that the content and the presentation of views are the personal opinion of the persons involved and do not reflect those of Persecution Relief. Persecution Relief assumes no responsibility or liability for the same. All Media Articles posted on our website, are not edited by Persecution Relief and is reproduced as generated on the respective website. The views expressed are the Authors/Websites own. If you wish to acquire more information, please email us at: persecutionrelief@gmail.com or reach us on WhatsApp: +91 9993200020

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *